Sunday, 1 January 2017

~* New year inspiring poem(आओ चलो साथ हमारे , क्यों बैठे अंधियारे में?)*`

           hello friends, makethem@stoftime   पर   आप लोगों के लिए एक बार फिर New year के  उपलक्ष्य  में एक inspiring  poem लेकर आये हे।  poem पूरी तरह से लाइफ के experience पर based हे।  world की compare लुटेरे से और स्वयं की traveller  से की गयी हे।
~New Dawn~

                                            ~*(आओ चलो साथ हमारे , क्यों बैठे अंधियारे में?)*~ 


                                           आओ चलो तुम साथ हमारे ,क्यों बैठे अंधियारे में ?
                                           
                                           अभी-अभी सुबह हुयी हे ,क्यों बैठे अंधियारे में ?
                                        
                                        आओ कुछ देर खो जाए हम नयी सुबह की   पनाहों में ,
                                  
                                        आओ कुछ देर  खो जाए हम इन भीनी-भीनी हवाओं में। 
                     
                       मंजिल तलाश रहे हे ये 'पवन' में शायद ,लगता हे इन पंछियों की  चहचाहट  में। 

                                Name Bade darshan chotey (नाम बड़े दर्शन खोटे ) poem jaroor padhiye..

                                     
                                        हम भी मंज़िल पा लेंगे ,लगता हे नयी सुबह की आहट में 
                                     
                                           कोई न चले तो हम ही चले अपनी मंज़िल की और 
                                   
                                      नजदीक ही लगता हे अब मंज़िल (सफलता ) का छोर 
                                               
                                                  इस सफर में चांदनी और अँधेरा हे 
                                    
                                        हम निशा के राहगीर हे ,और ये जग लुटेरा हे। 
                                                   
                                                   अब अँधेरा कहाँ राहों में ? 
                                                  
                                                    उजियारा ही उजियारा हे। 
                                   
                                 अब नहीं हरूँगा में ,क्योंकि साथ अब 'तुम्हारा ' हे। 
                                      
                                       क्यों जीवन का गीत अधूरा गए बैठे हो?
                                      
                                     क्यों हे आंखे नम ,क्यों नजरें  झुकाये बैठे हो ?
                                    
                                     आओ चलो साथ हमारे ,क्यों बैठे अंधियारे में ?
                                        अभी-अभी सुबह हुई हे क्यों बैठे अंधियारे में ?


Post पर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे। .... 

Wednesday, 21 December 2016

Name Bade darshan chotey (नाम बड़े दर्शन खोटे )

दोस्तों  आज आप लोगोंं के सामने एक हास्यास्पद  और व्यंगात्मत कविता Share  करना चाहता हु जो इंसानों के नाम पर आधारित हे |

अक्सर देखने में आता हे की व्यक्ति के गुण उसके नाम से match  नहीं करते | तो चलिए और आनंद  लीजिए  एक अद्भुत  कविता का....
always smile

                   ~• Name Bade darshan chotey (नाम बड़े दर्शन खोटे )•~
                               
                                      नाम -नाम सबने सुना ,देखा हे कुछ काम ?
                                 
                                    सारे दिन लड़ती रहे ,संतोषी जिसका नाम।   

                                    क्या कहुँ में आपसे ? क्या-क्या करूँ सवाल ?

                                    बालकिशन जी के सिर पर  एक नहीं हे बाल।  

                                          धनजी के घर का पूछो मत हाल,

                                   चूहे दंड वहाँ पीलते , पड़ा भयानक काल।  
          .
                              अरुणा जी की आंखे काली , मृग नयनि की आंखे लाल।  

                                     शंकर जिसका नाम हे कभी खाये भांग,

                              हर्षलाल कभी हँसे  नहीं , रणजीत ने सदा ही मानी हार।  
                                      
                                      अंतिम कुमार के भी है  छोटे भाई चार। 


                       जो मातृभूमि हेतु खुद को बलि चढ़ादे...inpiring poem के   click  करे...



ऐसी ही मस्त poem और रोचक तथ्यों के लिए हमारी blog makedamostoftime  एक बार visit जरूर करे। धन्यवाद। 

Like and recommend us on facebook...


Tuesday, 27 September 2016

पसंदिदा रंग से जानें अपना और औरों का स्वभाव ( color psychology: color says about your nature)

दोस्तों अगर मैं  आपसे कहूँ की मैं  आपका पसंदिदा रंग पूछकर आपका व्यव्हार/स्वाभाव बता सकता हूँ ,तो आप क्या कहेंगे ?
 मैं  आज आप सभी का  रंगों की Psychology से परिचय करता हूं। 
आप अपने परिचित और खुद का  स्वाभाव  Favorite color के  आधार पर जान सकते हे , तो चलिए पढ़ते हे color Psychology .... 

(१.) Red color (लाल रंग )-
जिन लोगों को लाल रंग पसंद होता हे वे साहसी और आत्मविश्वासी होते हे। 
ऐसे लोग frank  और friendly  होते हैं ।  ये लोग  ऊर्जा से पूर्ण रहते हे।  
ऐसे लोग अपने भविष्य के लिए सजग होते हे पर इनमें धैर्य की कमी होती हे और ये सबकुछ पाने की चाह  रखते हैं । 
(२) White color ( सफ़ेद रंग )- 
सफ़ेद रंग को पसंद करने वाले लोग साधारण और विश्वासपात्र होते हे।  
ये लोग शांति प्रिय होते हैं।  ये लोग हमेशा प्यार पसंद करते हे  लेकिन अपनी एक अलग ख्वाबो की दुनिया भी 
रखते हे जो इनका secret  होता हे। ये लोग  दूरदर्शी भी होते हे। 
(३) Orange (नारंगी रंग )-
Orange color पसंद  करने वाले शारीरिक  आराम  की चाहा अधिक रखते हे। 
ये लोग हमेशा खुश रहना पसंद करते हे। 
ये लोग आशावादी होते हे और स्वादिष्ठ  भोजन का शौक  रखते हे।  
अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित  होते हे। 
(४) Green color (हरा रंग ) -
जिन  लोगों  को हरा रंग प्रिय होता हे  वे बुद्धिमान और frank  होते हे।  
ऐसे लोग  वफादार  होते हे। दिल के मामलों  में ये लोग कमजोर होते हे। 
दूसरों का दुखः  ये लोग नहीं देख पाते और लड़ाई झगड़ों से दूर ही रहते हे। 
(५) Pink color (गुलाबी रंग )-
गुलाबी रंग पसंद करने वाले लोग अपने जीवन साथी के प्रति बहूत ही भावुक  होते हे। 
इस color को पसंद करने वाला व्यक्ति खुशमिज़ाज होते हे पर शारीरिक रूप से कमजोर हो सकते  हे। 
ये लोग नाजुक और दयावान होते हे। अपने गुणों से ये लोग सबका दिल जीत लेते हे।  
(६) Blue color (नीला रंग ) -
नीला रंग पसंद करने वाले  लोग बहूत हे intelligent  होते हे। ये लोग भरोसे के काबिल होते हे। 
ये लोग बहूत ही वफादार होते हे पर जिद्दी भी। ये  लोग किसी का ध्यान खीचना पसंद नहीं करते ,यानि खुद को 
special show नहीं करते हैं । ऐसे लोग आत्मविश्वासी होते हे और चीजों को अपने हिसाब से सुलझाना पसंद करते हैं ।  ये लोग भी शांति पसंद करते हे और  भावुक भी होते हे।  
(७) Black color (कला रंग )-
कला रंग पसंद करने वाले लोग दिखावा पसंद करते हे।  ये लोग कार्यकुशल होते हे। 
ये लोग सभी लोगो पर स्वामित्व दर्शाने की कोशिश करते  हे। ऐसे लोग छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा हो जाते हे।  
ये लोग सभी के साथ मिलकर भी नहीं रहना पसंद करते।  
              
(८) Purple color (बैंगनी रंग ) -
 इस कलर को पसंद करने वाले लोग शाही अंदाज में जीना पसंद सरते हे। 
ये लोग स्वन्त्र जीवन जीना पसंद करते हे। ऐसे लोगो के सपने बड़े होते हे। 
ये  लोग भावनात्मक रूप से कमजोर होते हे। 
(९) Yellow color (पीला  रंग )-
पिला रंग पसंद करने वाले हमेशा खुश रहना और सभी को खुश रखना  पसंद करते हे।  
ये लोग स्पष्ट व्यक्तित्व के धनि होते हे। पिला रंग पसंद करने वाले लोग विषम परिस्थति में भी ईमानदारी से अपना प्रयत्न करते हे।  ये लोग जरुरत मंदों की मदद के लिए सदैव तत्पर रहते हे।  



आप लोगों को यदि यह जानकारी पसंद आयी हो तो हमें comment में जरूर बताये।  
suggestions are always invited at - pavanverma29494@gmail.com




Wednesday, 14 September 2016

The language of hand

 सभी visitors का make the most of time में  स्वागत हे, चूंकि हम लोग हिंदुस्तान के रहने वाले हैं  और इस देश में कईं ऐसे  ग्रन्थ हैं  जो किसी भी रहस्य को उजागर करने के लिए पर्याप्त हे।  

आज में आप लोगों से कुछ जानकारियाँ share करूँगा जो की हस्त रेखा ( Hand Language) से   हे। 
वैसे तो हमारे दोनों हाथ एक सामान लगते हे पर इनमे अन्तर  हे,

 दाहिने  हाथ की रेखाएँ   ( Right Hand lines ) अस्थायी चीजों की जानकारी देती हे,जबकि बाएं हाथ की रेखाएं Left Hand Lines ) जीवन के  चिरस्थायी रहस्यों  को उजागर करती हे। 
हम इस post में hand की प्रमुख  lines  के बारे में जानेंगे। 


१.) जीवन रेखा(Life  Line)
   -   यह रेखा अंगूठे(thumb) और तर्जनी(index finger)के मध्य से प्रारम्भ होकर अंगूठे की और झुक जाती हे। 
  यह line जितनी लंबी और स्पष्ठ होगी जीवन उतना ही लंबा और सरल होगा। 
life  line  बीच में अस्पष्ठ या कटी हो तो जीवन में समस्याएं बनी रहती हे। 

२.) मस्तिष्क रेखा (Head Line )
- अंगूठे और तर्जनी से start होने वाली दूसरी line हे जो हथेली को cross करते हुए निकलती हे ,
यह रेखा जीतनी गहरी और स्पष्ठ होती हे वह व्यक्ति उतना ही बुद्धिमान होता हे। 

३. ) ह्रदय रेखा ( Heart  Line )
-    यह line तर्जनी ( index finger ) और मध्यमा (middle finger ) से start होती हे ,यह रेखा दिल से संबंधित बातें उजागर करती हे। यह रेखा जितनी गहरी होगी आपका प्यार भी उतना ही गहरा होगा। 
और जितनी लंबी होगी प्यार भी उतने  ही लंबे समय तक बना रहेगा। 
यदि किसी इंसान की ह्रदय रेखा last में दोहरी (split ) हो तो वह व्यक्ति दोहरे मन का होता हे मतलब वह एक निर्णय नहीं लेता। 
४.) भाग्य रेखा (Fate Line )
- यह रेखा मध्यमा ( middle finger) और ह्रदय रेखा से सीधी  90° का कोण बनाती हे,
 यह रेखा हमारा भाग्य निर्धारित करती हे। यह रेखा यदि स्पष्ट न हो या कटी/टूटी हो तो भाग्य में आने वाली मुसीबतो की और इशारा करती हे 





उपरोक्त सभी जानकारियॉ एकत्रित की गयी हे ,किसी भी  सुझाव के लिए ईमेल करे 
for any suggestion e-mail at pavanverma2949@gmail.com












Sunday, 11 September 2016

Why do people throw coins into the river?

hello friends ,
मैं  बचपन से ही कईं  लोगों को नदी में सिक्के फेंकते हुए देखता  था।
मेरे मन में हमेशा यही सवाल उठता  की आखिर इस क्यों ?
हम अपनी मेहनत के पैसे क्यों पानी में फेंके ?

आज मुझे मेरे इस सवाल का जवाब मिल गया हे , और में आप सब के साथ इसे share करना चाहता हु।
तो चलिए जानते हे इस तथ्य की हकीकत ......

kya snakes apne killer ki image capture karta he?

यह  कार्य प्राचीन समय से होता आ रहा हे , जब सिक्के मुख्यतः तांबे के बनाए जाते थे।
विश्व की लगभग सभी सभ्यताऐं नदी किनारे ही विकसित हुई हे।
उस समय लोग नदियों  के किनारे रह कर अपना समय बिताते थे और उसी पानी का उपयोग किया करते थे।


ताम्बा  एक antibacterial धातु हे जो जल में घुलकर शरीर में पहुँच जाती हे और मानव शरीर को रोग मुक्त बनाती  हे जैसे कील, मुहाँसे  अदि साथ ही साथ रोग प्रतिरक्षक क्षमता भी बढाती हे।

ताम्बा धातु जल की अशुद्धि को भी दूर करती हे।
ताम्बे के संपर्क में आने पर Diarrhea के bacteria  मर जाते हे।
यही वजह हे की नदियों में सिक्के डालने का प्रचलन हे।


पोस्ट पढने हेतु धन्यवाद।

यह भी पढ़े  नीम्बू मिर्ची main गेट पर क्यों टाँगे