Saturday, 6 August 2016

Matrabumi

Tags

     ~   मातृभूमि  ~

                                    जो मातृभूमि हेतु खुद को बलि चढ़ादे , वह  प्यार ढूंढ़ रहा हूं
                                      देश प्रेम  ही सबकुछ हो जिसका,वही न्योछावर ढूंढ रहा हु
                                     भीड़ नहीं चाहिए मुझको ,में तो भगत सिंह सरदार ढूंढ रहा हु|
                                  
                                      बाग जला  था जालियाँ वाला ,जहाँ लाश पर लाश पड़ी थी,
                                                        कोई खून से लथपथ था, तो कहीं आंसुओं की झड़ी थी
                                                उस दिन को में अभी कहा भूल  रहा हु, 
                            भीड़ नहीं चाहिए मुझको , मैं तो उधम सिंह सरदार ढूंढ रहा हु |
             
                कुछ अपने हे कुछ पराये आ रहे हे ,ये दीप जलाने को कहते हे और देश जल रहे हे 
                                        सुन रुदन की सिसकियाँ , जिनके अपने गए हे दूर ,
                                     कही बहन की राखी जली तो जला कही मांग का सिन्दूर 
                                            इन दरिंदो से जीत लूँ , ओ बाजी ढूंढ रहा हु 
                                भीड़ नहीं चाहिए मुझको में तो वीर शिवाजी  ढूंढ रहा हु |
             
           कहाँ गयी ओ प्रखर धार जो करदे खाई पहाड़ो में, क्यों आयी हे नम्रता इन शेरो की दहाड़ों में ?
                            इन धधकती ज्वाला में मैं पानी ढूंढ रहा हु ,भीड़ नहीं चाहिए मुझको,
                                               में तो आज़ाद की जवानी ढूंढ रहा हु |



 http://makedamostoftime.blogspot.in/