Wednesday, 21 December 2016

Name Bade darshan chotey (नाम बड़े दर्शन खोटे )

Tags

दोस्तों  आज आप लोगोंं के सामने एक हास्यास्पद  और व्यंगात्मत कविता Share  करना चाहता हु जो इंसानों के नाम पर आधारित हे |

अक्सर देखने में आता हे की व्यक्ति के गुण उसके नाम से match  नहीं करते | तो चलिए और आनंद  लीजिए  एक अद्भुत  कविता का....
always smile

                   ~• Name Bade darshan chotey (नाम बड़े दर्शन खोटे )•~
                               
                                      नाम -नाम सबने सुना ,देखा हे कुछ काम ?
                                 
                                    सारे दिन लड़ती रहे ,संतोषी जिसका नाम।   

                                    क्या कहुँ में आपसे ? क्या-क्या करूँ सवाल ?

                                    बालकिशन जी के सिर पर  एक नहीं हे बाल।  

                                          धनजी के घर का पूछो मत हाल,

                                   चूहे दंड वहाँ पीलते , पड़ा भयानक काल।  
          .
                              अरुणा जी की आंखे काली , मृग नयनि की आंखे लाल।  

                                     शंकर जिसका नाम हे कभी खाये भांग,

                              हर्षलाल कभी हँसे  नहीं , रणजीत ने सदा ही मानी हार।  
                                      
                                      अंतिम कुमार के भी है  छोटे भाई चार। 


                       जो मातृभूमि हेतु खुद को बलि चढ़ादे...inpiring poem के   click  करे...



ऐसी ही मस्त poem और रोचक तथ्यों के लिए हमारी blog makedamostoftime  एक बार visit जरूर करे। धन्यवाद। 

Like and recommend us on facebook...