Sunday, 1 January 2017

~* New year inspiring poem(आओ चलो साथ हमारे , क्यों बैठे अंधियारे में?)*`

Tags

           hello friends, makethem@stoftime   पर   आप लोगों के लिए एक बार फिर New year के  उपलक्ष्य  में एक inspiring  poem लेकर आये हे।  poem पूरी तरह से लाइफ के experience पर based हे।  world की compare लुटेरे से और स्वयं की traveller  से की गयी हे।
~New Dawn~

                                            ~*(आओ चलो साथ हमारे , क्यों बैठे अंधियारे में?)*~ 


                                           आओ चलो तुम साथ हमारे ,क्यों बैठे अंधियारे में ?
                                           
                                           अभी-अभी सुबह हुयी हे ,क्यों बैठे अंधियारे में ?
                                        
                                        आओ कुछ देर खो जाए हम नयी सुबह की   पनाहों में ,
                                  
                                        आओ कुछ देर  खो जाए हम इन भीनी-भीनी हवाओं में। 
                     
                       मंजिल तलाश रहे हे ये 'पवन' में शायद ,लगता हे इन पंछियों की  चहचाहट  में। 

                                Name Bade darshan chotey (नाम बड़े दर्शन खोटे ) poem jaroor padhiye..

                                     
                                        हम भी मंज़िल पा लेंगे ,लगता हे नयी सुबह की आहट में 
                                     
                                           कोई न चले तो हम ही चले अपनी मंज़िल की और 
                                   
                                      नजदीक ही लगता हे अब मंज़िल (सफलता ) का छोर 
                                               
                                                  इस सफर में चांदनी और अँधेरा हे 
                                    
                                        हम निशा के राहगीर हे ,और ये जग लुटेरा हे। 
                                                   
                                                   अब अँधेरा कहाँ राहों में ? 
                                                  
                                                    उजियारा ही उजियारा हे। 
                                   
                                 अब नहीं हरूँगा में ,क्योंकि साथ अब 'तुम्हारा ' हे। 
                                      
                                       क्यों जीवन का गीत अधूरा गए बैठे हो?
                                      
                                     क्यों हे आंखे नम ,क्यों नजरें  झुकाये बैठे हो ?
                                    
                                     आओ चलो साथ हमारे ,क्यों बैठे अंधियारे में ?
                                        अभी-अभी सुबह हुई हे क्यों बैठे अंधियारे में ?


Post पर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे। .... 

This Is The Newest Post